Search

Press Note

सरकार और सिस्टम ने बेरोजगारों को फुटबॉल बना रखा है - नवीन जयहिन्द

सरकार और सिस्टम ने बेरोजगारों को फुटबॉल बना रखा है - नवीन जयहिन्द HKRN से निकाले गए 1600 कर्मचारियों के प्रतिनिधि पहुंचे जयहिन्द के पास टैंट में - बीते शुक्रवार 19 जनवरी को हरियाणा के सभी जिलों से हरियाणा कौशल रोजगार निगम(HKRN) से निकले गए 1600 लोगो के प्रतिनिधि न्याय की गुहार लगाने जयहिन्द सेना के प्रमुख नवीन जयहिन्द के पास उनके टैंट में पहुंचे। प्रतिनिधियों ने जयहिन्द को बताया कि उन्हें फसल की खरीद के समय कंप्यूटर ऑपरेटर(Deo) व चौकीदार मार्केट कमेटी में नियुक्त किया गया था और दो से तीन महीने 16000 रुपए में काम करवाने के बाद बिना नोटिस के नौकरी से निकल दिया। जिसके बाद उन्होंने दफ्तरों के चक्कर भी लगाए लेकिन कहीं कोई सुनवाई नही हुई, हार कर वे जयहिन्द के पास न्याय की गुहार लगाने पहुंचे ताकि उनकी आवाज सरकार के कानो तक पहुंच सके। जयहिन्द ने उनकी समस्या सुनी और उन्हें आश्वासन दिया कि हम आपके साथ है। साथ ही मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर व कृषि मंत्री जेपी दलाल से अपील करते हुए कहा कि इन बेरोजगारों को ऐसे परेशान न किया जाए इनकी समस्या का जल्द से जल्द समाधान किया जाए नही तो हम सोटा लेकर सड़क पर उतरेंगे और HKRN तो इजरायल में भी नौकरियां लगवा रहा है तो मुख्यमंत्री जी कम से कम इन्हें वहीं नौकरी लगवा दीजिये। ये तो चन्द्रयान पर चांद पे जाने का भी काम कर लेंगे। जयहिन्द ने बताया कि सबसे ज्यादा जो बात इन्हें परेशान कर रही है वह यह है कि बिना नोटिस के नौकरी से निकालने के बाद इनकी फैमिली आईडी में इनकम 1 लाख 80 हजार से ज्यादा दिखाई जा रही है, जिसकी वजह से इन सबका बीपीएल कार्ड कट गया, जिनको अनाज मिलता था वह बंद हो गया, जिनका आयुष्मान कार्ड बना हुआ था वह कट गया, इसके इलावा जो भी 1 लाख 80 हजार वालो को फैसिलिटी मिलती है वे खत्म हो गयी जैसे लड़की की शादी में सरकार 70 हजार कन्यादान देती है वह खत्म हो गया। जो 100 नंबर का स्कोर होता है उसमें से इनके 30 नंबर सीधा कटते है और ये लोग कहीं दूसरी जगह नौकरी मांगते है तो वहां भी नही मिलती क्योंकि इन सभी को फैमिली आईडी में कर्मचारी दिखाया गया है। जब ये उसे ठीक करवाने जाते है तो इनको एक दफ्तर से दूसरे दफ्तर भेज देते है। जयहिन्द ने कहा कि मुख्यमंत्री जी हमे ये बताए कि जो आप कहते हो कि 20-25 हजार नौकरियां भरी है, तो जो ये नौकरी से निकले गए है क्या इनका भी कोई डाटा उनके पास है? और जब मार्केट कमेटी से इनको निकल गया तो किसी दूसरे डिपार्टमेंट में भी इनको लगाया जा सकता था क्योंकि हरियाणा के अंदर 2 लाख वैकेन्सी खाली पड़ी है। जयहिन्द ने बताया कि हमने 1 साल पहले बेरोजगारों की बारात निकाली थी उस समय सरकार ने 1 साल के अंदर 65 हजार वेकैंसी भरने का वादा किया था तो उन्हें क्यों नही भरते।साथ ही जयहिन्द ने कहा कि सरकार हो या विपक्ष दोनों को इनकी आवाज उठानी चाहिए, क्योंकि बिना लोगो की मदद करे उन्हें कोई वोट नही देगा।

सरकार और सिस्टम ने बेरोजगारों को फुटबॉल बना रखा है - नवीन जयहिन्द

सरकार और सिस्टम ने बेरोजगारों को फुटबॉल बना रखा है - नवीन जयहिन्द HKRN से निकाले गए 1600 कर्मचारियों के प्रतिनिधि पहुंचे जयहिन्द के पास टैंट में - बीते शुक्रवार 19 जनवरी को हरियाणा के सभी जिलों से हरियाणा कौशल रोजगार निगम(HKRN) से निकले गए 1600 लोगो के प्रतिनिधि न्याय की गुहार लगाने जयहिन्द सेना के प्रमुख नवीन जयहिन्द के पास उनके टैंट में पहुंचे। प्रतिनिधियों ने जयहिन्द को बताया कि उन्हें फसल की खरीद के समय कंप्यूटर ऑपरेटर(Deo) व चौकीदार मार्केट कमेटी में नियुक्त किया गया था और दो से तीन महीने 16000 रुपए में काम करवाने के बाद बिना नोटिस के नौकरी से निकल दिया। जिसके बाद उन्होंने दफ्तरों के चक्कर भी लगाए लेकिन कहीं कोई सुनवाई नही हुई, हार कर वे जयहिन्द के पास न्याय की गुहार लगाने पहुंचे ताकि उनकी आवाज सरकार के कानो तक पहुंच सके। जयहिन्द ने उनकी समस्या सुनी और उन्हें आश्वासन दिया कि हम आपके साथ है। साथ ही मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर व कृषि मंत्री जेपी दलाल से अपील करते हुए कहा कि इन बेरोजगारों को ऐसे परेशान न किया जाए इनकी समस्या का जल्द से जल्द समाधान किया जाए नही तो हम सोटा लेकर सड़क पर उतरेंगे और HKRN तो इजरायल में भी नौकरियां लगवा रहा है तो मुख्यमंत्री जी कम से कम इन्हें वहीं नौकरी लगवा दीजिये। ये तो चन्द्रयान पर चांद पे जाने का भी काम कर लेंगे। जयहिन्द ने बताया कि सबसे ज्यादा जो बात इन्हें परेशान कर रही है वह यह है कि बिना नोटिस के नौकरी से निकालने के बाद इनकी फैमिली आईडी में इनकम 1 लाख 80 हजार से ज्यादा दिखाई जा रही है, जिसकी वजह से इन सबका बीपीएल कार्ड कट गया, जिनको अनाज मिलता था वह बंद हो गया, जिनका आयुष्मान कार्ड बना हुआ था वह कट गया, इसके इलावा जो भी 1 लाख 80 हजार वालो को फैसिलिटी मिलती है वे खत्म हो गयी जैसे लड़की की शादी में सरकार 70 हजार कन्यादान देती है वह खत्म हो गया। जो 100 नंबर का स्कोर होता है उसमें से इनके 30 नंबर सीधा कटते है और ये लोग कहीं दूसरी जगह नौकरी मांगते है तो वहां भी नही मिलती क्योंकि इन सभी को फैमिली आईडी में कर्मचारी दिखाया गया है। जब ये उसे ठीक करवाने जाते है तो इनको एक दफ्तर से दूसरे दफ्तर भेज देते है। जयहिन्द ने कहा कि मुख्यमंत्री जी हमे ये बताए कि जो आप कहते हो कि 20-25 हजार नौकरियां भरी है, तो जो ये नौकरी से निकले गए है क्या इनका भी कोई डाटा उनके पास है? और जब मार्केट कमेटी से इनको निकल गया तो किसी दूसरे डिपार्टमेंट में भी इनको लगाया जा सकता था क्योंकि हरियाणा के अंदर 2 लाख वैकेन्सी खाली पड़ी है। जयहिन्द ने बताया कि हमने 1 साल पहले बेरोजगारों की बारात निकाली थी उस समय सरकार ने 1 साल के अंदर 65 हजार वेकैंसी भरने का वादा किया था तो उन्हें क्यों नही भरते।साथ ही जयहिन्द ने कहा कि सरकार हो या विपक्ष दोनों को इनकी आवाज उठानी चाहिए, क्योंकि बिना लोगो की मदद करे उन्हें कोई वोट नही देगा।

नवीन जयहिंद ने खेल सशक्तिकरण यात्रा को दिखाई हरी झंडी, बोले : हरियाणा खेलों का प्रदेश, लाखों युवा कड़ाके की ठंड में करते हैं अभ्यास, सरकार मुहैया करवाए सुविधा

नवीन जयहिंद ने खेल सशक्तिकरण यात्रा को दिखाई हरी झंडी, बोले : हरियाणा खेलों का प्रदेश, लाखों युवा कड़ाके की ठंड में करते हैं अभ्यास, सरकार मुहैया करवाए सुविधा जयहिंद सेना के प्रमुख नवीन जयहिंद ने बुधवार को खेल क्रांति फाउंडेशन द्वारा शुरू की गई खेल सशक्तिकरण यात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह यात्रा 16 जनवरी को रोहतक से शुरू होकर 22 दिन पूरे प्रदेश के सभी जिलों में जाएगी। वहीं 6 फरवरी को खेल सशक्तिकरण यात्रा का रोहतक में ही समापन किया जाएगा। नवीन जयहिंद ने कहा कि हरियाणा खेलों का प्रदेश है। जहां लाखों युवा सुबह के समय कड़ाके की ठंड में अभ्यास करने घर से निकलते हैं। इसलिए युवाओं के लिए जो सुविधाएं हैं, उनको सरकार मुहैया करवाए। यात्रा के माध्यम से प्रत्येक जिले में सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं का आंकलन किया जाएगा। ताकि यह पता लग सके कि कहां पर क्या-क्या कमियां हैं। यात्रा की समाप्ति के बाद रिपोर्ट तैयार करके सरकार को सौंपी जाएगी। जो कमियां हैं, उन्हें सरकार तुरंत दूर करे। साथ ही जयहिंद ने यात्रा का समर्थन करने का आश्वासन भी दिया। इस अवसर पर नवीन जयहिंद ने खिलाडियों द्वार शुरू की गई इस यात्रा का समर्थन करते हुए कहा कि सरकार को खिलाड़ियों की आवाज सुननी चाहिए। खेलों से जुड़ी अगर कोई खामी है तो सरकार को उसे दुरुस्थ करना चाहिए। चाहे फिर वो खेलों के नियमों के लेकर हो या खेल के मैदानों से जुड़ा हो। यह यात्रा हर जिले के शहर, कस्बों, गांवों से होते हुए निकलेंगी और स्टेडियम-खेल नर्सरी का जायजा लेगी। अगर कहीं भी कोई खामी पाई जाती है मुख्यमंत्री को इससे अवगत कराया जाएगा। ताकि वो समस्या का समाधान करवा सके। आज प्रदेश के खिलाड़ी आए दिन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पदक जीत कर न सिर्फ हरियाणा बल्कि देश का नाम रोशन कर रहे है । जयहिंद ने मख्यमंत्री से भी अपील करते हुऐ कहा कि ये यात्रा कोई निजी स्वार्थ में नहीं बल्कि प्रदेश के उन सभी युवाओं के लिए है जो आगे भविष्य में खेलों के मैदान में उतरेंगे।

बालाजी महाराज के दरबार में पहुंचे नवीन जयहिंद

बालाजी महाराज के दरबार में पहुंचे नवीन जयहिंद जयहिंद सेना प्रमुख नवीन जयहिंद मंगलवार को सराय बहादुरगढ़ में बाला जी के जागरण में पहुंचे । गोविंद गुलिया जी द्वारा आयोजित इस समारोह में लोक गायक नरेंद्र कौशिक सहित सैकड़ों भगत मौजूद रहें । नवीन जयहिंद ने बालाजी महाराज का आशीर्वाद लिया और जनता के भलाई , सुख - शान्ति व समृद्धि की कामना की। साथ ही असहाय व जरूरतमंद की मदद करने की भी बात रखी। जयहिंद ने कहा आज उसी वक्त की फिर से जरूरत है जो पहले हुआ करता । बिना किसी स्वार्थ के लोग अनजान की मदद के लिए आगे आते थे

700 दानवीर पहुंचे 8 लाख रूपए दिया दान, बोले जयहिंद की आवाज नही दबने देगें

700 दानवीर पहुंचे 8 लाख रूपए दिया दान, बोले जयहिंद की आवाज नही दबने देगें 21 दिन तक चलायेंगे डोनेशन कैंपेन -जयहिंद बीते दिन जयहिन्द सेना के सुप्रीमो नवीन जयहिन्द ने 14 जनवरी मकर सक्रांति के दिन स्टेडियम के सामने खुले आसमान के नीचे टैंट में दानवीर भामाशाह भंडारे का आयोजन किया , जिसमे तन/मन/धन से साथ देने वाले 700 से अभी अधिक दानवीर भामाशाह ने भाग लिया । भंडारे में साथिया से बात कर नवीन जयहिंद ने बताया कि हम संघर्ष करते करते कंगाल व कर्जदार हो चुके है और जनता की लड़ाई लड़ने के लिए दानवीरों व भामाशाह की जरूरत है। जिसके बाद आज दानवीरों ने अपनी श्रद्धासमान दान दिया और भोजन ग्रहण किया। भंडारे में वो लोग सहयोग करने पहुंचे जिनकी आवाज नवीन जयहिंद ने उठाई थी उसमे पैंशन धारक बुजुर्ग, दिव्यांग, महिलाएँ, खिलाड़ी, पुलिस वाले, सरपंच, पंच, नंबरदार सहित सैकड़ों की संख्या में लोगों पहुंचे और दान दिया और कहा कि हम जयहिंद सेना के साथ खड़े है और तन/मन/धन से साथ देंगे। आज समाज को ऐसे नेताओं की नहीं जो सिर्फ़ चुनाव के समय जनता को याद करें बल्की ऐसे योद्धाओं की ज़रूरत है जो सड़क पर उनके लिये संघर्ष कर सके । जयहिंद ने कहा कि मेरे लिए खाने का चाहे एक भी टुकड़ा न बचे लेकिन 36बिरादरी की आवाज ऐसे ही उठाउगा समाज के 36 बिरादरी के भाईचारे का वो धन्यवाद करते है । दानवीरों का एक रूपिया एक करोड़ रुपये के बराबर है । क्योकि ये इनके खून पसीने की कमाई का है । बुजुर्ग अपनी पेंशन से दान दे रहे है तो पुलिस वाले और कर्मचारी अपनी तनख़्वाह से दान कर रहे है । इनका आभारी वे ज़िंदगी भर रहेंगे । .....इसी बॉक्स में..... जयहिन्द आज 14 जनवरी से 21 दिनों तक यह डोनेशन मुहीम चलाएंगे। जो भी दान देने वाले साथी है वे QR कोड स्कैन करके दान दे सकते है।

मकर सक्रांति को दानवीरो का भंडारा रोहतक

मकर सक्रांति को दानवीरो का भंडारा रोहतक* *नवीन जयहिन्द लगे भंडारे की तैयारियों में* *जयहिन्द ने जनता से मांगा सहयोग, 21 दिन तक श्रद्धा के अनुसार कर सकते है दान* जयहिन्द सेना के सुप्रीमो नवीन जयहिन्द ने विडियो के मध्य से बताया कि हम संघर्ष करते करते कंगाल व कर्जदार हो चुके है और जनता की लड़ाई लड़ने के लिए दानवीरो व भामाशाह की जरूरत है। इसके लिए कल 14 जनवरी मकर सक्रांति के दिन दोपहर 12 बजे स्टेडियम के सामने खुले आसमान के नीचे टैंट में एक भंडारे का आयोजन किया जाएगा, जिसमे तन/मन/धन से साथ देने वाले सभी दानवीर भामाशाह का न्योता है। नवीन जयहिन्द व सोनू मलिक(मोखरा) खुद भंडारे की तैयारियों में गाजर का हलवा बनाते हुए दिखे। साथ ही नवीन जयहिन्द ने जयहिन्द सेना का QR कोड जारी करते हुए कहा की हम पिछले 9 दिनों से टैंट में रह रहे है और हमारे पास जनता को लड़ाई लड़ने के जितने साधन व संसाधन थे सभी खत्म हो चुके है, तो 21 रुपए से लेकर जितना भी दान अपनी श्रद्धासमान दे सकते है। जयहिन्द 14 जनवरी से 21 दिनों तक यह डोनेशन मुहीम चलाएंगे। जो भी दान देने वाले साथी है वे QR कोड स्कैन करके या भंडारे में आकर दान दे सकते है। जयहिन्द ने कहा कि अब तक जिन भी दानवीरों ने दान दिया उनका तहे दिल से धन्यवाद करते है और इसका वे जीवन भर आभारी रहेंगे उन्होंने की उनके सड़क के संघर्ष में अब जिसने भी साथ दिया वे उनके भी आभारी है

सरकार व प्रशासन की जिम्मेदारी बनती है गाड्डे लोहारो की मदद करें - नवीन जयहिन्द

सरकार व प्रशासन की जिम्मेदारी बनती है गाड्डे लोहारो की मदद करें - नवीन जयहिन्द जयहिन्द की सरकार से अपील गाड्डे लोहारो की रहने की जगह सुनिश्चित की जाए गाड्डे लोहारो के 2 साल के बच्चे की ठंड के कारण मौत, जयहिन्द पहुंचे सांत्वना देने जयहिंद सेना प्रमुख नवीन जयहिंद शुक्रवार को रोहतक नई बस स्टैंड के नजदीक रह रहे गाड्डे लोहार से मिलने पहुंचे । जयहिंद को जब सूचना मिली कि इनका 2 साल का बच्चा ठंड की वजह से मर गया । सूचना प्राप्त करते ही जयहिंद तुरंत परिवार से मिलने पहुंचे और परिवार को सांत्वना दी। उन्होंने इस मौके पर प्रशासन और सरकार से अपील की कि इस कड़कती ठंड में इन परिवारों को बसेरा दिया जाए । यह सिर्फ रोहतक ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश में अलग-अलग जगह पर फुटपाथ पर तरह रह रहे हैं। बारिश, गर्मी और सर्दी का प्रकोप पक्का घर न होने की वजह से इन के परिवारों को झेलना पड़ रहा है। जयहिंद ने कहा कि जब इनके पूर्वज महाराणा प्रताप की सेना थे तो उस दौरान उन्होंने संकल्प लिया था कि जब तक महाराणा प्रताप या उनके वंशजो का राज न आ जाए तब तक ऐसे ही बिना छत के अपना जीवन यापन करेंगे। नवीन जयहिंद ने आगे कहा कि ऐसे में समाज और सरकार दोनों की जिम्मेदारी बनती है कि इन परिवारों की मदद की जाए। हर बार इनके परिवार कोई न कोई सदस्य बिगड़ते मौसम में घर न होने की वजह से मर जाता है। जयहिंद ने सरकार से अपील की कि इनके रहने के लिए जगह सुनिश्चित के साथ घर दिए जाए ताकि भविष्य में इस तरह की कोई अप्रिय घटना न हो।

संघर्ष करते–करते कंगाल व कर्जदार हो गए जयहिन्द

संघर्ष करते–करते कंगाल व कर्जदार हो गए जयहिन्द* *जनता की लड़ाई लड़ने के लिए भामाशाह व दानवीरों की जरूरत* *पहरावर मे 2 करोड़ की घोषणा में से मुझे नही मिले 2 रूपए भी – जयहिन्द* *हजारों करोड़ रूपए लेकर बैठी राजनीतिक पार्टियां किस मुंह से जनता से पैसे मांग रही है – जयहिन्द बीते बुधवार जयहिन्द सेना के सुप्रीमो नवीन जयहिन्द ने अपने टैंट में प्रेसवार्ता कर बताया कि हम संघर्ष करते करते कंगाल व कर्जदार हो चुके है और जनता की लड़ाई लड़ने के लिए दानवीरो व भामाशाह की जरूरत है। इसके लिए आने वाली 14 जनवरी दोपहर 12 बजे मकर सक्रांति के दिन स्टेडियम के सामने खुले आसमान के नीचे टैंट में एक भंडारे का आयोजन किया जाएगा, जिसमे तन/मन/धन से साथ देने वाले सभी दानवीर भामाशाह का न्योता है। साथ ही नवीन जयहिन्द ने जयहिन्द सेना का QR कोड जारी करते हुए कहा की हम पिछले 7 दिनों से टैंट में रह रहे है और हमारे पास जनता को लड़ाई लड़ने के जितने साधन व संसाधन थे सभी खत्म हो चुके है, तो 21 रुपए से लेकर जितना भी दान अपनी श्रद्धासमान दे सकते है। जयहिन्द 14 जनवरी से 11 दिनों के लिए यह मुहीम चलाएंगे। जो भी दान देने वाले साथी है वे QR कोड स्कैन करके या भंडारे में आकर दान दे सकते है। जयहिन्द ने कहा की 100 करोड़ से लेकर हजारों करोड़ रुपए पैसों का भंडार राजनीतिक पार्टियों के पास है, फिर भी लोगो से पैसे मांगती है। और हम अपना घर बनवाने के लिए पैसे नही मांग रहे बल्कि हम जो जनता की लड़ाई लड़ रहे है सिर्फ उसके लिए मांग रहे है। तो जिस भी साथी ने पहले मदद की है और जो साथ अब मदद कर सकता है उनका धन्यवाद व न्योता है। जयहिन्द ने बताया कि लोगो में यह अफवाह फैली हुई है की पहरावर में जयहिन्द को 2 करोड़ों रुपए का दान मिला है, लेकिन जयहिन्द को उनमें से 2 रुपए भी नही मिले। और वह घोषणा जयहिन्द के लिए नही बल्कि परशुराम मन्दिर के लिए हुई थी।

गौ माता के लिए केस और जेल दोनों के लिए तैयार -जयहिंद

गौ माता के लिए केस और जेल दोनों के लिए तैयार -जयहिंद जयहिंद सेना प्रमुख नवीन जयहिंद आज रोहतक डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में पहुंचे। आज कोर्ट में गौमाता के चारे और उसकी दुर्दशा को लेकर 7 साल पहले "खूंटा गाड़ अभियान" के दौरान केस दर्ज में पेशी में पहुंचें । इस अभियान के दौरान उन्होंने पूर्व वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु के घर के बाहर खूंटा गाड़कर गाय बांधी थी। हरियाणा में गायों की दुर्दशा को देखते हुए यह अभियान चलाया गया था, जिसके चलते जयहिन्द पर केस किया गया। इसी केस को लेकर आज नवीन जयहिन्द रोहतक कोर्ट मंगलेश चौबे जी की अदालत में गवाही देने पहुंचे, जहां कोर्ट ने अगली सुनवाई 8 फरवरी 2024 में तय की है । इस दौरान कोर्ट में गौरव भारती, एडवोकेट विकास लकड़ा, एडवोकेट मदनलाल नवीन जयहिंद की अगुवाई करने के लिए मौजूद रहे। जयहिन्द ने कहा कि 2016 में यह केस दर्ज हुआ था लेकिन आज भी गायों दुर्दशा ऐसी ही है। सरकार के साथ समाज की भी जिम्मेदारी बनती है कि सड़कों पर घूम रहीं गाय माता को इस कड़कती ठंड में चारा और सर्दी से बचाने की व्यव्स्था की जाएं। साथ ही सभी बेजुबान और लावारिश जानवरों की भी मदद करें। जयहिंद ने कहा कि आप देख सकते है कि कैसे सड़को पर गौ माता कचरा खाती घूम रही है, ऐक्सीडेंट में मर रही है और सुनने वाला भी कोई नही है। उन्होनें कहा कि गौ माता की सुरक्षा के लिए मुझ पर चाहे दस केस और लग जाए तो भी , हमे कोई परवाह नही। गौ माता के लिए हमारी जान भी हाजिर है। इसी में बॉक्स जयहिंद ने वही पत्रकारों के SYL पर पूछे सवाल के जवाब में कहा कि SYL हरियाणा का हक है और जब सरकारें सुप्रीम कोर्ट के आदेश को नहीं मानेगी तो फिर किसके आदेश को मानेगी।

समाज के सुप्रीम कोर्ट थे स्वर्गीय चौ. नफे सिंह नैन – जयहिन्द

समाज के सुप्रीम कोर्ट थे स्वर्गीय चौ. नफे सिंह नैन – जयहिन्द रविवार को जयहिंद सेना प्रमुख नवीन जयहिंद सर्व खाप अध्यक्ष एवं सर्वजातीय बिनैण (नैन) खाप के राष्ट्रीय प्रधान चौ. नफे सिंह नैन जी की 17वीं पर उन्हें श्रद्धांजलि देने जींद जिले के गांव दनोदा पहुंचे । नवीन जयहिंद ने कहा कि उन्होंने कभी लोगो को न्याय के लिए कोर्ट, कचेहरी व थानो के चक्कर नही काटने दिए, उनका निधन होना समाज के लिए बहुत बड़ी क्षति है। उन्होंने हमेशा 36 बिरादरी के भाइचारे की बात थी। वे सबके सुख दुःख में सबके साथ खड़े रहते थे । चौधरी नफे सिंह एक सुलझे हुए व पंचायती व्यक्ति थे। उनकी हर बात को लोग मानते है। वे निडर होकर अपनी बात रखते थे, जिस कारण वो अपने आप में ही एक सुप्रीम कोर्ट थे और उनकी पहचान प्रमुख व्यक्तियों में होती थी । यही कारण है कि वो पिछले 20 साल से प्रधान पद पर बने हुए थे। उनके द्वारा समाजहित के लिए रखी गई मांगों को प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री व मंत्री अवश्य पूरा करते थे। जयहिंद ने आगे कहा कि आज प्रदेश और समाज को ऐसे लोगों की जरूरत है जो आपसी भाईचारे और न्याय की बात करें। उनको सच्ची श्रद्धांजलि यही है कि हम उनके द्वारा दिए विचारों को अपने जीवन में अपनाए। अगर आज हमारे समाज में ऐसे न्याय प्रिय बुजुर्ग और हो फिर न तो हमें कोर्टों की जरूरत होगी और न की पुलिस थानों की।

Find Us on Facebook