Search

Press Note

आज रोहतक में जयहिंद सेना के कोर कमाण्डरों की मीटिंग तंबू में

आज रोहतक में जयहिंद सेना के कोर कमाण्डरों की मीटिंग तंबू में आगामी रणनीति पर जयहिंद करेंगे कमांडरों के साथ चर्चा रविवार को रोहतक के सेक्टर 6 स्थित तंबू में जयहिंद सेना प्रमुख डॉ नवीन जयहिंद कोर कमांडरों की मीटिंग लेंगे । जयहिंद ने बताया कि इस मीटिंग में जयहिंद के कमांडरों के साथ आगामी रणनीति पर चर्चा करेंगे । साथ ही किस तरह से ज़्यादा लोगों तक जयहिंद सेना के कोर कमांडर पहुँच सकते है । कैसे जनता के मुद्दे उठा सकते है । जयहिंद ने बताया कि जयहिंद सेना का मक़सद जनता के मुद्दे उठाना और ज़रूरतमंदों की मदद करना है । शुरू दिन से वे और उनके साथियों ने जनता की हर समस्या के लिए आवाज़ उठाई है । “थार फूफा ज़िंदा है “ दादा दुलीचंद 104 साल के साथ प्रदेश के लाखों बुजुर्गों, दिव्यांगों और विधवाओं की पेन्शन बनवाई। हज़ारों मृतकों को ज़िंदा करवाया । लाखों लोगों के फ़ैमिलीआईडी में हुई गड़बड़ों को ठीक करवाया । काटे जगये बीपीएल राशन कार्डफिर बनवाये । खेल कोटा बहल करवाया । syl के मुद्दे को उठाया और ट्रैक्टर पर मार्च निकाला। दिल्ली पुलिस के कर्मचारियों के वेतन और भत्ते को बढ़ाने की माँग को उठाया और कई भत्ते बढ़ाये गए । भर्तियों के मुद्दों को उठाया और 65 हज़ार भर्तियाँ निकली गई । फरसे और 36 बिरादरी के भाईचारेके दम पर पहरवार की ज़मीन को प्रशासन के क़ब्ज़े से छुड़वाया। पीजीआई में बाहरियों की हो रही भर्ती के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई और केस दर्ज हुआ । भाईचारे और नशे के ख़िलाफ़ कावड़ यात्रा निकालने पर केस दर्ज हुआ । किसानों की आवाज़ उठाने पर केस दर्ज हुआ । सभी देवी देवताओं के आशीर्वाद और भाईचारेके सहयोग से उनके पास आने वाले हर फ़रियादी और ज़रूरतमंद की वे आवाज़ उठाते और आगे भी उठाते रहेंगे। जयहिंद ने कहा कि वे अपना जीवन जनता को समर्पित कर चुके है अब चाहे उन पर हज़ार केस हो जाये वो नहीं डरते। जनता की आवाज़ विधानसभा के बाहर तक लेकर गए है। ये कोर कमांडर है जो उनके संघर्ष में साथ है । इसी भाईचारे के दम पर उन्होंने सड़क का संघर्ष किया है .....इसी बॉक्स में..... श्री अन्नपूर्णा आश्रम सन्तोषी माता मन्दिर सेवा समिति द्वारा आयोजित विशाल भंडारे में कलानौर पहुंचे नवीन जयहिंद और माता रानी का आशीर्वाद लिया और प्रदेश की जनता की भलाई और सुखसमृद्धि की कामना की

ये लड़ाई मान सम्मान की है , पैसे की नहीं, सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लडूंगा - दादा दुलीचंद

ये लड़ाई मान सम्मान की है , पैसे की नहीं, सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लडूंगा - दादा दुलीचंद फिल्म से कमाए पैसे को वृद्धाश्रम, अनाथाश्रम और गौशाला में करें दान - जयहिंद कंटेंट चोरी करके पैसा कामना पाप - जयहिंद "थारा फूफा जिन्दा है" मामले में दर्ज केस में पेश हुए एप सहित पाँच के वकील जयहिंद सेना प्रमुख नवीन जयहिंद शुक्रवार को रोहतक जिला कोर्ट में "थारा फूफा जिन्दा है" मामले में सुनवाई में जज आदित्य यादव की कोर्ट में पेश हुए | इससे पहले एप सहित पांच लोगों के नाम कोर्ट ने सम्मन जारी किया था | इस मौके पर एप, नीरज चोपड़ा (ब्रांड एम्बसडर), डायरेक्टर संजय भसीन, विश्वास चौहान, हरीश छाबड़ा के वकील रोहतक जिला कोर्ट पहुंचें | दुसरे पक्ष ने समय माँगा जिसके बाद इस मामले में अगली तारीख 8 मई की दी गई है | जयहिंद ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि असली फूफा 104 वर्षीय दादी दुलीचंद है जिन्होंने 2 साल पहले"थारा फूफा जिंदा है" कि मुहिम चलाई थी और प्रदेश के लाखों बुजुर्गों, दिव्यांग और विधवाओं की पेंशन बनवाई। सरकारी कागजों में सरकार ने इन्हें मरा हुआ दिखाया था और इसी को लेकर तब इन्होंने संघर्ष किया था और यह अभियान चलाया। उहोने जज के सामने यही बात रखी कि पूरी दुनिया में सबसे पहले "थारा फूफा जिन्दा है" की मुहीम दादा दुलीचंद के साथ उन्होंने चलाई थी | इस एप ने व्यवसायिक तौर पर ये शब्द इस्तेमाल किये है | अगर वे गलत साबित होते है तो कोर्ट चाहे तो बेशक नवीन जयहिंद पर जुर्माना लगा दे | जयहिंद ने कहा कि हमें इस से एप कोई पैसा नहीं चाहिए | हमारी एक ही अपील ही कि ये एप जितना भी पैसा कमाए उसे वृद्धाश्रम, अनाथाश्रम और गौशाला में दान दे |साथ ही दादा दुलीचंद से माफ़ी मांगे | उन्होंने पहले एप को समय दिया था माफ़ी मांगने और नाम बदलने के लिए लेकिन एप की तरफ से कोई जवाब न आने की वजह से उन्हें ये कदम उठाना पड़ा | इस तरह से कंटेंट चोरी करना आज के युग में पाप से कम नहीं है | अब ये लड़ाई मान -सम्मान की है पैसे की नहीं| दादा दुलीचंद के साथ अगर सुप्रीम कोर्ट तक भी जाना पड़े तो वे पीछे नहीं हटेंगे संघर्ष जरुर करेंगे | इस मौके पर एडवोकेट गौरव भारती, एडवोकेट मदनलाल मोजूद रहे |

रथ पर सवार हो कर असली फूफा दादा दुलीचंद के साथ रोहतक कोर्ट पहुंचे जयहिंद

रथ पर सवार हो कर असली फूफा दादा दुलीचंद के साथ रोहतक कोर्ट पहुंचे जयहिंद ऐप सहित पांच लोगों को कोर्ट ने भेजा सम्मन- जयहिंद 12 अप्रैल को जिला कोर्ट मे हाजिर होने का जज ने दिया आदेश कंटेंट चोरी मामले में 104 वर्षीय दादा दुलीचंद ने ओटीटी प्लेटफॉर्म पर किया केस एक बार फिर बारात के साथ कोर्ट में पहुंचें असली फूफा दादा दुलीचंद ऐप वाले फिल्म से होने वाली कमाई को गौशाला और वृद्धाश्रम में करें दान -जयहिंद जयहिंद सेना प्रमुख डॉ नवीन जयहिंद और 104 वर्षीय दादा दुलीचंद बुधवार को रथ पर सवार होकर कोर्ट पहुंचे। इस अनोखे तरीके से कोर्ट में पहुंचने का कारण था एक ऐप द्वारा चुराया गया कंटेंट। नवीन जयहिंद और दादा दुलीचंद रोहतक कोर्ट में इस ऐप पर केस करने पहुंचे। पत्रकारों के सवालों के जवाब में नवीन जयहिंद ने कहा कि असली फूफा 104 वर्षीय दादी दुलीचंद है जिन्होंने 2 साल पहले"थारा फूफा जिंदा है" कि मुहिम चलाई थी और प्रदेश के लाखों बुजुर्गों, दिव्यांग और विधवाओं की पेंशन बनवाई। सरकारी कागजों में सरकार ने इन्हें मरा हुआ दिखाया था और इसी को लेकर तब इन्होंने संघर्ष किया था और यह अभियान चलाया। लाखों फैमिली आईडी में हुई गड़बड़ ठीक करवाई गई थी। यह अभियान न सिर्फ प्रदेश में बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर भी सुर्खियों का विषय बन गया था। जयहिंद ने आगे कहा कि इस तरह से कोर्ट में आने का एक ही कारण है कि लोगों को याद दिलाया जाए कि असली फूफा दादा दुलीचंद है। ओटीटी प्लेटफॉर्म इनके कंटेंट को कमर्शियल तरीके से यूज कर पैसे कमाने में लगी है। इस वजह से असली फूफा नाराज भी है । उन्होंने ऐप को 24 घण्टे का समय दिया था लेकिन दिन बाद भी उनकी तरफ से कोई जवाब न आने पर असली फूफा ने कोर्ट केस करने का फ़ैसला लिया। कोर्ट में बुधवार को कंटेंट चोरी को लेकर पिटीशन भी दायर की गई है। जयहिंद ने कहा कि उन्हें न तो कोई पैसे चाहिए ऐप वालो से और न ही कोई फूल माला का सम्मान । उन्हें इस फिल्म से जितनी कमाई हो वो वृद्धाश्रम और गौशाला में दान करें । वही जयहिंद ने नीरज चोपड़ा के ब्रांड अंबेसर होने पर कहा कि नीरज चोपड़ा इस ऐप को प्रमोट करते हैं तो वो ऐप वालों से असली फूफा के चुराए गए कंटेंट पर जवाब दे । यह ऐप करोड़ो कमा में रही है। ऐसे में इस तरह की कंटेंट चोरी शोभा नहीं देती। अगर ऐप वाले असली फूफा से पूछ कर फिल्म बनाते तो शायद वो मना भी नहीं करते। अगर वे इस फ़िल्म से होने वाली कमाई को वृद्धाश्रम में दे रहे है तो उन्हें कोई समस्या नहीं है। उन्हें इस ऐप से कोई रेवेन्यू या पैसा नहीं चाहिए। वही दादा दुलीचंद ने भी मीडिया के सामने कहा कि थारा असली फूफा अभी जिंदा है। .......इसी में बॉक्स....... दादा दुलीचंद और नवीन जयहिंद के वकील गौरव भारती ने बताया कि सिविल जज आदित्य यादव ने इस पूरे मामले की सुनवाई की और 12 अप्रैल को ऐप सहित पांच लोगों को हाजिर होने के लिए सम्मन भी भेजा। एडवोकेट गौरव भारती, एडवोकेट मदन लाल भारतीय, एडवोकेट दीपक कुमार सिसोदिया, एडवोकेट मनीष, एडवोकेट सिद्धार्थ बजाज ने पैरवी की जयहिंद ने इस पर कहा कि उन्हें न्याय प्रक्रिया पर पूरा विश्वास है असली फूफा को न्याय जरूर मिलेगा।

थारा असली फूफा जिन्दा भी है और नाराज भी-जयहिंद

थारा असली फूफा जिन्दा भी है और नाराज भी-जयहिंद एप पर जयहिंद ने लगाए कंटेंट चुराने का आरोप नीरज चोपड़ा को जयहिंद ने कहा एप वालों को समझाए कॉन्टेंट न चुराए पानीपत में नशे के खिलाफ कावड़ यात्रा निकालने पर दर्ज केस में पेश हुए जयहिंद चुनाव प्रचार कर रहे नेताओं से जनता करें सवाल -जयहिंद जूतों की माला के साथ जयहिंद फिर उतरेंगे सड़कों पर नवीन जयहिंद और उनके साथी सोमवार को पानीपत में नशे और बेरोजगारी के खिलाफ़ कावड़ यात्रा लाने पर दर्ज मामले की सुनवाई में पेश हुए । जज प्रदीप चौधरी की कोर्ट मे केस की सुनवाई हुई और अगस्त में अगली तारीख दी गई है। जयहिंद ने पत्रकारों को बताया कि उनकी यात्रा नशे के खिलाफ़ और बेरोजगारी को लेकर थी । युवाओं में बढ़ रहा नशा और अपराध चिंता का विषय है। ऐसे मे सरकार और समाज को मिल कर इसे खत्म करने के लिए कदम उठाना चाहिए। उनकी ये यात्रा पूरी तरह से समाज को समर्पित थी। और वो भोलेनाथ के भगत है व आगे भी इस तरह से वो कावड़ यात्रा लाते रहेंगे। इस मौके पर पत्रकारों द्वारा एक ओटीटी प्लेटफॉर्म पर आ रही "थारा फूफा जिंदा है" सीरीज को सवाल पूछा तो जयहिंद ने बताया कि उनका न तो इस एप से कोई लेना देना है और न ही इस सीरीज से । उन्होंने प्रदेश के बुर्जुगों, दिव्यांगो और विधवाओं के लिए मुहीम चलाई थी जिसका नाम "थारा फूफा जिंदा है" रखा गया। इस मुहिम का नेतृत्व 104 वर्षीय दादा दुलीचंद ने किया था लेकिन ओटीटी एप वालों ने तो उनसे कोई संपर्क किया और नहीं दादा दुलीचंद से। कोई धन का चोर होता है कोई मन का चोर कोई तन का लेकिन एप वाले तो कंटेंट चोर निकले। परिवार पहचान पत्र में हुई गड़बड़ को लेकर के यह मुहिम पूरे प्रदेश में चली थी और देश-विदेश की मीडिया ने इसे कवर किया था। आज वही फूफा ओटीटी एप वालों से नाराज है और जिन्दा भी है। नीरज चोपड़ा इस एप के ब्रांड एंबेसडर भी उन्हें तो मालूम भी नहीं होगा कि ये एप कंटेंट चोरी कर सीरीज बना रही है । जयहिंद ने आगे कहा कि एप की इस सीरीज से न उन्हें कोई पैसा मिला और न ही दादा दुलीचंद सहित प्रदेश के उन तमाम फूफा और बुआओं को जिन्होंने अपने संघर्ष की लडाई लड़ी। उन्हें कोई समस्या नहीं है कि एप या कोई और प्लेटफॉर्म कोई सीरीज बनाएं लेकिन किसी का कंटेंट चोरी करके सीरीज बनाकर पैसे कमाए यह गलत है। वे इस सीरीज से हुई कमाई को अगर वृद्ध आश्रम अनाथ आश्रम में देते हैं तो उन्हें बड़ी खुशी होगी लेकिन किसी के संघर्ष को चोरी कर अपने घर भरे यह मंजूर नहीं । t जयहिंद ने ओटीटी एप 24 घंटे का समय देते हुए कहा कि वो अपनी गलती स्वीकारे और असली फुफाओं के संघर्ष को भी जनता को दिखाएं । ....इसी में बॉक्स... नेताओं के लिए जनता फूलों और जूतों की माला रखें तैयार - जयहिंद नवीन जयहिंद पत्रकारों द्वारा चुनाव लड़ने के सवाल पर जवाब देते हुए कहा कि मीडिया उन्हें कभी बीजेपी से चुनाव लाडवा देती है तो कभी कांग्रेस से । उन्हें जब भी चुनाव लड़ना होगा वह जरूर बताएंगे। जयहिंद ने आगे कहा कि वह जल्द ही जनता के बीच नेताओं के लिए जूते की माला लेकर उतरेंगे । उन्होंने कहा कि वह नेताओं का इस तरह से रास्ता रोकने और उनके साथ बदतमीजी करने के समर्थन में नहीं है बल्कि इससे गांव का भाईचारा ही खराब होता है। अगर किसी नेता से आपको परेशानी है तो उसे आप अपने पास बुलाए और अपने सवाल उनसे करें कि उन्होंने सत्ता में रहते हुए आपके क्या काम करवाएं और विपक्ष में रहकर जनता के लिए क्या संघर्ष किया। नेताओं के लिए फूलों की माला और जूते की माला साथ रखें।

बलिदानी फौजी के बूढ़े मां-बाप बुढ़ापा पेंशन के लिए खा रहे हैं दफ्तरों के धक्के : जयहिंद

बलिदानी फौजी के बूढ़े मां-बाप बुढ़ापा पेंशन के लिए खा रहे हैं दफ्तरों के धक्के : जयहिंद जब तक सरकार पेंशन नहीं देगी तब तक जयहिंद देंगे बुर्जुग महिला को सम्मान पेंशन सरकार और सरकारी अधिकारी दो दिन में बुजुर्ग महिला की पेंशन करें बहाल नहीं तो उतरेंगे सड़क पर - जयहिंद स्कूल बंद कर रहे हो तो शराब का ठेका खुलवाने का लाइसेंस दे दो सरकार: नवीन जयहिंद जयहिंद सेना प्रमुख डॉ नवीन जयहिंद के पास शनिवार को रोहतक तम्बू में एक बुजुर्ग दंपति अपनी पेंशन कटने की समस्या को लेकर पहुंचे । जयहिंद ने बताया कि बुर्जुग दंपति एक फौजी के मां-बाप है जो अब इस दुनिया मे नहीं है । ऐसे में उस फौजी के बाद समाज और सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि उनका सम्मान हो और दुःख सुख में साथ खड़े हो । लेकिन एक शहीद फौजी की मां जिसने अपने कलेजे का टुकड़ा इस देश को दिया आज वो खुद बुढ़ापा पेंशन के लिए धक्के खा रही है और अधिकारी पावर के नशे में चूर है । मुख्यमंत्री कह रहे है कि उनके घर के द्वार जनता के लिए हमेशा खुले है तो इस बुर्जुग माता के लिए क्यों बंद है । जयहिंद ने पूरे मामले को पत्रकारों के सामने रखते हुए कहा कि माता जी अनपढ़ है तो उनके पास कोई भी स्कूल प्रमाण पत्र नहीं है ऐसे में पहले के नियमानुसार सरकारी डॉक्टर ने उनकी उम्र प्रमाण के कागजात तैयार किया जिसमें वह वर्ष 2013 में 60 साल की हो गई। लेकिन नई पेंशन के आधार पर ये वर्ष 2014 में 60 वर्ष की होती है । जिसकी वजह से वर्ष 2019 में इनकी पेंशन काट दी गई और इन्हें 2013 से लेकर के 2019 तक ली गई पेंशन को अवैध बताते हुए वापस करने का फरमान जारी किया गया। अब यह बुजुर्ग दंपत्ति पिछले कई सालों से सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट रहा है और अब अधिकारियों ने आचार संहिता का हवाला देकर इन्हें घर बैठने के लिए बोल दिया गया । जयहिंद ने आगे कहा कि अधिकारी बिना जाँच के 2019 में उनकी पेंशन कैसे काट सकते है । अगर सरकार को बुर्जुग सम्मान पेंशन वापिस ही चाहिए तो पहले माताजी को मई 2019 से लेकर मार्च 2024 तक की पेंशन ब्याज सहित वापिस करें जो की लगभग डेढ़ लाख रुपए बनते है । वही सरकार इसमें से दिसंबर 2013 से अगस्त 2014 तक की 3500 रुपए काट कर बाकी की पेंशन ब्याज सहित वापिस करें। जयहिंद ने वही सरकारी अधिकारी द्वारा जारी तुगलकी फरमान पेंशन वापसी पर कहा कि बुजुर्ग महिला ने न तो सरकारी अधिकारियों को किसी तरह के फर्जी दतावेज दिए और न ही सरकार को कोई धोखा दिया । जयहिंद ने वही सरकार और सरकारी अधिकारीयों को 2 दिन का समय देते वह कहा कि या तो दो दिन में माता जी की समस्या का समाधान हो नहीं तो वे खुद उनके साथ सड़क पर उतरेंगे। वही जयहिंद ने माता जी को बुढ़ापा पेंशन 3 हजार रूपए की सहायता राशि देकर उनकी मदद की और कहां की जब तक सरकार उन्हें सम्मान पेंशन नहीं देगी वह उन्हें यह पेंशन देंगे। ........इसी बॉक्स में....... स्कूल बंद कर रहे हो तो शराब का ठेका खुलवाने का लाइसेंस दे दो सरकार: नवीन जयहिंद जयहिंद ने कहा की गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों में पढ़ने वाले लाखो बच्चे कहाँ जाएंगे । इसके साथ ही ये गैर मान्यता प्राप्त स्कूल हजारों पढ़े -लिखे युवाओं को रोजगार दिए हुए हैं । सरकार हजारों पढ़े लिखे युवाओं का रोजगार क्यों छीनना चाहती हैं । अगर सरकार स्कूलों को बंद ही करना चाहती हैं तो फिर उनके स्कूल को बंद करके उन्हें शराब के ठेके का लाइसेंस दे दे । जयहिंद ने सरकार की चिराग योजना पर भी सरकार को घेरते हुए कहा की जब सरकार खुद ही चिराग योजना के तहत प्राइवेट स्कूलों में दाखिला करने के लिए आवेदन मांग रही हैं तो फिर प्राइवेट स्कूलों को बंद करने का क्या औचित्य हैं । सरकार को चाहिए की इन गैर मान्यता प्राप्त स्कूलो की मान्यता लेने के लिए नियमो का सरलीकरण करे ताकि ये स्कूल भी स्थाई मान्यता ले सके और भूमि मानकों में भी आवश्यक सुधार करना चाहिए । क्योंकि ये वे प्राइवेट स्कूल हैं जो गरीब परिवार के बच्चो को नाम मात्र मासिक फीस लेकर शिक्षा देते हैं। इन प्राइवेट स्कूलों की मासिक फीस मात्र 400से 500 रु हैं जबकि सरकार भी संस्कृति मॉडल स्कूलों में 500से 700 रु मासिक फीस ले रही हैं । जयहिंद ने हरियाणा के मुख्यमंत्री और शिक्षामंत्री से इन स्कूलों को बंद ना करने की अपील की ताकि लाखो लोगो का रोजगार बना रहे वही । जयहिंद ने कहा की अगर सरकार ने इन स्कूलों को बंद करने की कोशिश की तो उन्हें मजबूरी में सोटा उठाकर सड़क पर उतरना पड़ेगा जबकि हरियाणा की नई शिक्षामंत्री स्वयं पहले एक प्राइवेट स्कूल में कंप्यूटर टीचर रह चुकी हैं तो उन्हें इनकी स्तिथि समझनी चाहिए और समस्या का समाधान करना चाहिए । .......इसी बॉक्स में...... नवीन जयहिंद गांव बोहर, जिला रोहतक में अयोजित चतुर्थ दो दिवसीय प्रदेश हैंड बॉल प्रतियोगिता में बतौर अतिथि पहुंचे । जयहिंद ने सभी खिलाड़ियों को उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए कामना की और दूर दूर से आये युवाओं को भी खेल के लिए प्रेरित किया । जयहिंद ने कहा कि सबसे पहला सुख निरोगी काया होता है । युवा नशे से दूर रहे और खेल को अपने जीवन का हिस्सा बनाये ।

बेरोजगारों की लडाई की सजा भुगत रहा हूं – जयहिंद

मैं किसी पार्टी की टिकट कि दौड़ में नहीं कृपया फ़ोन कर परेशान ना करे – जयहिंद बेरोजगारों की लडाई की सजा भुगत रहा हूं – जयहिंद रोहतक। 1 साल पहले रोहतक पीजीआई में चल रही भर्तियों में हरियाणा से बाहर के बच्चो को भर्ती किया जा रहा था। जिसे लेकर विवाद हुआ और नवीन जयहिन्द, सोनू मलिक (मोखरा), नवीन मलिक व साथ ही उस समय के पीजीआई में चीफ सिक्योरिटी ऑफिसर ईश्वर शर्मा पर केस हुआ जिसके लिए नवीन जयहिंद सोनू मालिक (मोखरा)10 दिनों तक रोहतक की सुनारियां जेल में भी गए। इसी मामले को लेकर बुधवार 27 मार्च 2024 को नवीन जयहिन्द, सोनू मलिक, नवीन मलिक, ईश्वर शर्मा की रोहतक कोर्ट में पेशी हुई। जिसमे एडवोकेट गौरव भारतीय व एडवोकेट मदनलाल भारतीय उनके साथ रहे। कोर्ट द्वारा अगली सुनवाई मई 2024 की दी गई। जयहिन्द ने बताया की वहां हरियाणा के बच्चों की जगह बाहरियों को भर्ती किया जा रहा था और जब हमे पता चला तो भर्ती कर रहे अधिकारी द्वारा पहले बुजुर्ग चीफ सिक्योरिटी ऑफिसर ईश्वर शर्मा पर हाथ उठाया गया और बाद में झगड़ा बढ़ गया। अभी भी सरकार की तरफ से लेटेस्ट नोटिफिकेशन यही आया है की जो सोशल–इकॉनोमी के 5% नंबर सिर्फ हरियाणा के बच्चो को मिलने चाहिए वे नंबर हरियाणा से बाहर के बच्चो को भी मिलेंगे। इसका मतलब साफ है जो 65 हजार भर्तियां अब हरियाणा में होनी है उनमें कोई हरियाणा का बच्चा नहीं लगेगा। जयहिंद ने कहा कि वे प्रदेश के युवाओं के लिए लड़ रहे थे और आगे भी लड़ेंगे । इसके लिए अगले दस साल भी इन केसों को भुगतना पड़े तो तैयार है । आज प्रदेश के लाखों युवा बेरोज़गार घूम रहे है । इसलिए सरकार बाहरियों को नहीं प्रदेश के युवाओं को मौक़ा दे । आई इसी में बॉक्स - वही पत्रकारों द्वारा केजरीवाल के जेल जाने पर पूछे सवाल के जवाब में जयहिंद ने कहा कि ये कोर्ट का मामला है । अगर वो निर्दोष है तो कोर्ट उन्हें न्याय देगा नही तो अपने कर्मों को भुगतना ही पड़ेगा। इसी में बॉक्स - जयहिंद ने चुनाव लड़ने के सवाल पर कहा कि मीडिया ने मुझे पहले बीजेपी का उम्मीदवार बनाया था अब कांग्रेस का बना रही है। जयहिंद ने कहा हम तो भोलेनाथ के भक्त है जो भोलेनाथ का आदेश होगा हमे वही मंजूर है। हंसते हुए जयहिंद ने कहा कि थोड़े दिन में अमेरिका में भी चुनाव है उनकी ट्रम्प से भी बातचीत चल रही है ।

जयहिंद ने 36 बिरादरी के भाईचारे के साथ होली मनाई

जयहिंद ने 36 बिरादरी के भाईचारे के साथ होली मनाई सैकड़ों लोगों ने ग्रहण किया भोलेनाथ के देशी घी के भंडारे का प्रसाद दादा दुलीचंद भी पहुंचे नवीन जयहिंद के होली मिलन समारोह में युवा त्यौहार पर दारू पी कर न चलाए गाड़ी - जयहिंद रविवार 24 मार्च को नवीन जयहिंद और उनके साथियों ने रोहतक के सेक्टर 6 स्थित टेंट में होली और भोलेनाथ का देसी घी का भंडारा आयोजन किया। इस अवसर पर नवीन जय हिंद और उनके साथियों ने गौरी गाय और उसके बछड़े के साथ भी होली खेली। भोलेनाथ के देसी घी के भंडारे में सैकड़ो लोग प्रसाद ग्रहण करने पहुंचे और नवीन जयहिंद का तन मन धन से साथ देने और संघर्ष में हमेशा साथ खड़े होने की बात कही। जयहिंद ने इस मौके पर पत्रकार साथियों से बातचीत में कहा कि होली का त्यौहार है भाईचारे और आपसे प्यार प्रेम का त्यौहार है। वह प्रदेश की प्रगति, विकास समृद्धि व सुख - शान्ति की कामना करते हैं। साथ ही जयहिंद ने युवाओं से अपील इस मौके पर युवा किसी भी तरीके की ऐसी हरकत ना करें जिससे कानून और सामाजिक व्यवस्था बिगड़े। साथ ही शराब पी वाहन न चलाएं। भाईचारे के साथ इस त्यौहार को गुलाल और पानी के साथ हंसी-खुशी मनाएं। इसी में बॉक्स 102 वर्षीय दादा दुलीचंद पहुंचे नवीन जयहिंद के होली मिलन समारोह में प्रदेश में लाखों बुजुर्गों, दिव्यांग और विधवाओं की पेंशन बनवाने वाले दादा दुलीचंद भी नवीन जयहिंद को होली की बधाई देने होली मिलन समारोह में पहुंचे और भोलेनाथ के भंडारे में प्रसाद ग्रहण किया। इस अवसर पर दादा दुलीचंद ने नवीन जयहिंद और उनके साथियों को आशीर्वाद दिया और प्रदेश के युवाओं को समाज की सभी बुराइयों को खत्म करने और अपने आप को एक अच्छा इंसान बनाने की अपील की।

17 साल पुराने साथी होने के नाते जायेंगे केजरीवाल के साथ जेल - जयहिंद

17 साल पुराने साथी होने के नाते जायेंगे केजरीवाल के साथ जेल - जयहिंद मैं जेल जाने को तैयार हूं आप नेता बताएं कौन जाएगा साथ में जेल - जयहिंद अन्ना आन्दोलन में केजरीवाल के साथ जेल गया अभी भी जेल जाने को तैयार - जयहिंद जयहिंद सेना प्रमुख डॉ नवीन जयहिंद ने शुक्रवार को सेक्टर 6 स्तिथ टेंट में प्रेस वार्ता को सम्बोधित किया। जयहिंद सेना का नेतृत्व कर रहे नवीन जयहिंद ने पत्रकार साथियों के सामने उन्होंने जेल जाने की बात है । जेल अपने किसी केस में नहीं बल्कि दिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ दिल्ली सरकार द्वारा किए 100 करोड़ के शराब घोटाले में जेल जाने को तैयार है । पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब में कहा कि उन्होंने 2004 में केजरीवाल को एमडीयू में बुलाया था । तब इन्हें कोई जानता तक नहीं था। 17 साल उन्होने केजरीवाल के साथ काम किया है। इन्होंने केजरीवाल के साथ मिल कर स्वराज की किताबें बेची थी। सड़कों पर लठ खाए थे । लेकिन आज वो अरविंद केजरीवाल के पुराने साथी होने के नाते 17 दिन जरूर जेल में जायेंगे। जयहिंद ने कहा कि आम आदमी पार्टी के जो क्रांतिकारी कार्यकर्ता है उनका इस्तेमाल हुआ है और वोट बैंक बढ़ाने के लिया हो सकता है कोई राजनीतिक पटकथा लिखी गई हो । पुराने साथियों का केजरीवाल ने इस्तेमाल किया और दूसरी पार्टियों से आए भ्रष्ट लोगों को मंत्रालयों में बैठाया गया । जयहिंद ने अन्ना आंदोलन का भी जिक्र करते हुए कहा कि अन्ना आंदोलन के समय भी जब अन्ना जेल गए थे तब उनके साथ अरविंद केजरीवाल , मनीष सिसौदिया और नवीन जयहिंद थे। उस समय राष्ट्रीय स्तर के हुए आंदोलन में भी तिहाड़ जेल में गए थे। जयहिंद 16 सदस्ययी कोर कमेटी का भी हिस्सा रहे है । अपने आप को भगत सिंह और आंबेडकर जी का अनुयायी बताने वाले आज केजरीवाल जेल जाने क्यों दर रहे है । सांच को आंच नहीं होती । देश में आंबेडकर जी का लोकतंत्र है और न्यायलय है । केजरीवाल को क्या कानून पर विश्वास नहीं है । किस बात से डर रहे है । जिन जांच एजेंसियों को काम करने न करने का उलहाना देते थे आज अगर उन्होंने केजरीवाल पर कार्यवाही कर दी तो नाराजगी क्यों है । जयहिंद ने कहा की लेकिन विडंबना की बता ये है कि अरविंद केजरीवाल ने जिन्हे मंत्री बनाया, सांसद बनाया, विधायक बनाया कोई भी उनके साथ जेल जाने को तैयार नहीं है। लेकिन पुराने साथी होने के नाते वो उनके साथ जेल जाने को तैयार है । आज उनके साथ भले ही कोई ना हो पर वो हारे हुए के साथी है। जयहिंद ने मांग की कि वे मुख्यमंत्री है तो ये मामला फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई हो और एक साल में इस पूरे मामले की जांच हो । साथ ही अरविंद केजरीवाल का लाइव नार्को टेस्ट हो । साथ वे देश और प्रदेश में हुए घोटाले की भी जांच की मांग करते है । जयहिंद ने आगे कहा कि गीता में भी लिखा है कि जैसे आपके कर्म होंगे वैसा आपको फल मिलेगा । इन्होंने सुप्रीम कोर्ट के आदेश की पालना नहीं की। हरियाणा की प्यासी जनता को syl का पानी नहीं दिया। ..........इसी बॉक्स में......... रविवार 24 मार्च को रोहतक में जयहिंद का होली मिलन समारोह नवीन जयहिंद ने सभी प्रदेशवासियों को होली की शुभकामनाएं दी और कहा की यह प्यार प्रेम का त्यौहार है सभी इस दिन मिलकर त्योहार मनाए और आपसी मनमुटाव को दूर करें। जयहिंद ने बताया कि वह इस दिन रविवार 24 मार्च को अपने टेंट में होली मिलन समारोह और भोलेनाथ का देसी घी का भंडारा का आयोजन कर रहे हैं सभी प्रदेशवासियों का न्योता है । और जनता के साथ वे अपना त्यौहार मनाएंगे।

हारे को सहारा देने वाला खाटू श्याम का असली भगत ; जयहिंद

हारे को सहारा देने वाला खाटू श्याम का असली भगत ; जयहिंद जयहिंद सेना प्रमुख डॉ नवीन जयहिंद बुधवार को खाटूश्याम बाबा के अलग अलग जगह आयोजित कार्यक्रमों में पहुँचे । नवीन जयहिंद साथियों सहित बाबा श्याम सेवा समिति द्वारा गांव मोखरा खेड़ी(रोहतक), गांव बहुअकबरपुर, गांव मायना, गांव गांधरा, और रोहतक के राजेंद्र नगर में आयोजित खाटू श्याम बाबा के समारोह में आशीर्वाद लेने पहुँचे। इस अवसर पर नवीन जयहिंद खाटू श्याम बाबा से प्रदेश की जनता की ख़ुशहाली और स्वस्थ रहने के लिए कामना की । जयहिंद ने साथियों सहित भंडारे में प्रसाद ग्रहण किया । जयहिंद ने कहा कि ये उनके लिए सौभाग्य की बात है कि उन्हें आज बाबा श्याम के दरबार में हाजरी लगाने का मौक़ा मिला । जयहिंद ने हारे को ही सहारा देने वाला ही असली खाटू श्याम का भक्त है । ग़रीब और ज़रूरतमंद की मदद करने में कभी पीछे नहीं हटना चाहिए और सैदव मानवता की सेवा के लिए आगे रहना चाहिए ।

रक्तदान से बड़ा कोई दान नही - नवीन जयहिन्द

रक्तदान से बड़ा कोई दान नही - नवीन जयहिन्द रक्तदान महादान, एक रक्तवीर बचाता है चार लोगों की जान - जयहिन्द भिवानी । बुधवार 20 मार्च को शहीदी दिवस के उपलक्ष्य में शहीद-ए-आज़म भगत सिंह सेवा ट्रस्ट द्वारा भिवानी में स्थित चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय में कैंसर पीड़ितों के लिए विशाल रक्तदान शिविर आयोजित करवाया गया जिसमें जयहिंद सेना सुप्रीमो नवीन जयहिन्द पहुंचे। जयहिन्द ने भाई मोनू, नवीन बौंद व उनकी पूरी टीम का इस नेक काम के लिए बहुत धन्यवाद किया, क्योंकि रक्तदान से बड़ा कोई दान नही होता। साथ ही जयहिन्द ने बताया कि यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान उन्होंने भी सौ से ज्यादा रक्तदान शिविर लगाए है। जयहिन्द ने देश, प्रदेश के हस्पतालों मे खून की कमी के हालात बताते हुए कहा कि समय पर खून न मिलने की कमी के कारण लाखो लोगो की मौत हो जाती है, लेकिन रक्तदान करने वाला एक व्यक्ति कम-से-कम चार लोगों की जान बचाता है। जो भी रक्तदान करता है हम उसे रक्तवीर भी बोल सकते है। जयहिन्द ने युवाओ का हौंसला बढ़ाते हुए कहा कि आप सब इसी तरह समाज कल्याण के कार्य करते रहिए, अगर आप जैसे लोग होंगे तो यह देश अपने आप सुधर जाएगा। जिस तरीके से शहीद-ए-आज़म भगत सिंह जी के नाम पर यह रक्तदान शिविर लगाया गया है, हमारे क्रांतिकारियों को याद करने का इससे अच्छा तरीका कुछ नही हो सकता। इस अवसर पर मोनू, नवीन बौंद व पूरी टीम मौजूद रही।

Find Us on Facebook