Search

संत रविदास जी ने कहा था जो समाज के लिए जिएगा वही 100 साल जिएगा : नवीन जयहिंद जाति जन्म से नहीं कर्म से होती है: नवीन जयहिंद बीते शनिवार रोहतक के मोखरा गांव में संत परंपरा के महान योगी और परम ज्ञानी संत शिरोमणि रविदास जी की 647वीं जयंती के उपलक्ष्य में समारोह आयोजित किया गया जिसमे जयहिंद सेना प्रमुख नवीन जयहिंद पहुंचे और जनसभा को संबोधित किया । जयहिंद ने अपने संबोधन में कहा कि जो निस्वार्थ भाव से समाज की भलाई के लिए काम करेगा इतिहास उसे ही याद रखता है । हमें संत रविदास जी की विचारधारा से प्रेरणा लेनी होगी और समाज के भले के लिए काम करना होगा । जयहिंद ने कहा कि संत-महात्मा और क्रांतिकारियों की कोई जात-बिरादरी नहीं होती है । आज के दिन जो समाज पढ़ेगा-लिखेगा और संघर्ष करेगा वही आगे बढ़ेगा । जाति कर्म से बनती है न कि जन्म से नहीं । जयहिंद ने मन चंगा तो कटौती में गंगा कहावत का ज़िक्र करते हुए कहा कि जब मन साफ़ होता है तो इंसान ग़रीबी में भी सुख चैन और लंबा जीवन जी लेता है । जयहिंद ने युवाओं के लिए भी कहा कि आज के युवा में सामाजिक चेतना होना ज़रूरी है जो उसे हक़ -अधिकार और न्याय के लिए संघर्ष की प्रेरणा दे और निष्पक्ष बात कहने से कभी पीछे न हटे ।

हरियाणा प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री पंडित भगवत दयाल शर्मा जी की 31वीं पुण्यतिथि पर बेरी पहुंचे: नवीन जयहिन्द पंडित भगवत दयाल शर्मा जी की मुख्यमंत्री होने से भी बड़ी पहचान यह थी की वें एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे : नवीन जयहिंद झज्जर । बीते वीरवार 22 फरवरी को जयहिंद सेना प्रमुख नवीन जयहिन्द महान स्वतंत्रता सेनानी व हरियाणा के पहले मुख्यमंत्री पंड़ित भगवत दयाल शर्मा जी की 31वीं पुण्यतिथि पर बेरी(झज्जर) में स्थित पंडित भगवत दयाल शर्मा पार्क पहुंचे जहाँ उन्होंने पंडित भगवत दयाल शर्मा जी की प्रतिमा पर फूल चढ़ाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। जिसके बाद जयहिन्द ने सभा को सम्बोधित किया पंडित भगवत दयाल शर्मा जी की मुख्यमंत्री से भी बड़ी पहचान यह थी कि वे एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे। इसके साथ वे राज्यपाल भी रह चुके थे। पंडित भगवत दयाल शर्मा जी की पुण्यतिथि पर बच्चो ने योगा व गायकी की प्रदर्शनी भी की, जिनका नवीन जयहिन्द ने 1100 रुपए देकर मान-सम्मान किया। पंडित भगवत दयाल शर्मा जी एक स्वाभिमानी और समाज के हक़ की लड़ाई लड़ने वाले व्यक्ति थे । वे जिस सम्मान के हक़दार है वो उन्हें न तो समाज से मिला और न ही किसी सरकार से । आज समाज की ज़िम्मेदारी बनती है कि व्यक्ति ने अपना पूरा जीवन समाज और देश के लिए संघर्ष में बिता दिया उसे कम से कम एक दिन याद कर सम्मान दे सके । जयहिंद ने कहा कि आज समाज को उनके विचारों को अपनाना चाहिए । संघर्ष से पीछे नहीं हटने वाले पंडित जी हमेशा हक़ के लड़ने वाले थे । किसी राजनेता के सामने हाथ जोड़ने से समाज का भला नहीं होगा । आज संघर्ष के साथ खड़े होने वाले बहुत कम लोग बचे है । आज समाज के किए संघर्ष करने वाले लोगों की ज़रूरत है ।

विधानसभा सेशन में SYL के मुद्दे पर एक दिन हो चर्चा - जयहिंद* *विधानसभा में पक्ष -विपक्ष दल के विधायक SYL पर करें अपनी स्तिथि स्पष्ट -जयहिंद* *SYL का पानी लाने वाले को दिया जाएगा 1- 1 लाख का ईनाम -जयहिंद* *राजनेता और किसान नेता SYL अपना रुख स्पष्ट करें -जयहिंद* *हरियाणा की ढ़ाई करोड़ जनता के लिए न्याय मांगने जायेंगे सुप्रीम कोर्ट - जयहिंद* बीते रविवार रोहतक राजीव गांधी स्टेडियम के सामने सेक्टर 6 टैंट से जयहिंद सेना प्रमुख डॉ नवीन जयहिंद ने SYL को लेकर साथियों के साथ मीटिंग और प्रेसवार्ता की। पत्रकारों से बातचीत में नवीन जयहिंद ने कहा कि आज कोई भी SYL के मुद्दे पर बात नही कर रहा वो चाहे कोई नेता ,राजनेता, किसान नेता हो। चाहे कोई भी हो SYL की जो बात नही कर रहा वो हरियाणा का गद्दार है । जयहिंद ने SYL के पानी लाने पर “पहले आओ पहले पाओ” का नारा देते हुए नवीन जयहिंद ने कहा जो भी नेता, मंत्री, मुख्य्मंत्री SYL नहर निर्माण की बात करेगा उन्हें वो 1 लाख का इनाम देंगे, साथ ही जयहिंद ने कहा अगर SYL नहर निर्माण हो जाता है तो वो उस इनाम को बड़ा कर 11 लाख कर देगें और पूरे हरियाणा की जनता का भंडारा करेंगे । जयहिंद ने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा, किसान नेता राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढ़ुनी सहित तमाम नेता और मंत्री सिर्फ़ इतना कह दे कि सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला लागू होना चाहिए और SYL नहर का निर्माण होना चाहिए वे एक लाख रुपये इनाम देनेको तैयार है । पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए जयहिंद ने कहा 20 फ़रवरी से हरियाणा का विधानसभा सत्र शुरू हो रहा है और वो अपनी मांग को लेकर विधानसभा में जायेंगे और हर मंत्री से सवाल पूछेंगे । प्रदेश में 90 विधायक और 15 सांसद है न तो संसद में और न ही विधानसभा में हरियाणा के हक़ की आवाज़ उठा रहे है । बीजेपी के तो मैनिफेस्टो में भी SyL नहर के निर्माण और सुप्रीम कोर्ट में हरियाणा की मजबूत पैरवी रखने का ज़िक्र है। SYL कोई राजनीतिक नहीं न्यायिक मुद्दा है । जयहिंद ने कहा कि सरकारी आँकड़ों के मुताबिक़ हरियाणा के 10 लाख एकड़ ज़मीन पानी की कमी के कारण बंजर पड़ी है और इस ज़मीन पर 40 लाख टन अनाज पैदा किया जा सकता है । 70% हरियाणा के लोग जहरीला पानी पी रहे हैं जिसके कारण हरियाणा के लोगो को अलग अलग बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है । गावों में गर्मियों में पानी के लिए पशु और आम जनता दोनों तरस रहे होते है । पानी पर किसी एक का हक़ नहीं है और न किसी एक बिरादरी को पानी चाहिए । साफ़ पानी तो सबकी आधारभूत ज़रूरत है । 36 बिरादरी को पानी चाहिए । साथ ही जयहिंद ने SYL नहर निर्माण को लेकर पत्रकार साथियों और जो भी सोशल मीडिया के जरिए सवाल उठा सके है उन सब से अपिल की वो SYL को लेकर जरूर आवाज उठाए, पानी किसी एक की जरूरत नही पानी सभी को चाइए नवीन जयहिंद ने मटका फोड़ प्रर्दशन का जिक्र करते हुए कहा जो पार्टियाँ बरसाती मेढ़को की तरह आते है और सिर्फ राजनीति करते है अगर SYL की बात नही करते और मटका फोड़ प्रदर्शन करते है तो उनके मटके फोड़ प्रदर्शन हम करेंगे । वही नवीन जयहिंद ने सुप्रीम कोर्ट ने नाम एक पत्र भी लिखा जिसमें उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से SYL नहर के निर्माण और हरियाणा को अपने हक़ का पानी दिलाने के मामले में हस्तक्षेप की बात कही । जयहिंद ने लिखा कि हरियाणा की जनता SYL के मुद्दे पर न्याय की बांट जौह रही है । पंजाब और हरियाणा की सरकार वार्ताओं से आगे नहीं बढ़ पा रही है। इसी में बॉक्स नवीन जयहिंद ने किसान आंदोलन पर पत्रकारों के सवालों के जवाब में कहा कि MSP का समर्थन करते और आंदोलन के साथ है लेकिन शांतिपूर्ण आंदोलन के पक्ष में है । नुक़सान किसी का भी हो भुगतना निर्दोष जनता को करना पड़ता है

पुलिस नहीं दे रही गवाही, सरकार चाहती है कि कोर्ट के चक्कर लगाते रहे जयहिन्द गौ माता के लिए सौ केस भी मंजूर है - नवीन जयहिन्द रोहतक : तकरीबन 8 साल पहले जयहिंद सेना प्रमुख नवीन जयहिन्द ने प्रदेश में एक खूंटा गाड़ अभियान चलाया था जो कि हरियाणा में गायो की दुर्दशा को देखते हुए चलाया गया था। इसको लेकर जयहिन्द ने उस समय वित्त मंत्री रहे कैप्टन अभिमन्यु के घर के बाहर खूंटा गाड़कर गाय बांधी थी। जिसके चलते जयहिन्द पर केस किया गया। इसी केस को लेकर आज नवीन जयहिन्द रोहतक कोर्ट में गवाही देने पहुंचे, जहां कोर्ट ने अगली तारिख 20 मार्च निश्चित की । इस दौरान कोर्ट में एडवोकेट मदनलाल भारतीय, नवीन जयहिंद की अगुवाई करने के लिए मौजूद रहे।लेकिन पुलिस की तरफ से कोर्ट में गवाही देने के लिए आज भी कोई नहीं पहुंचा। जयहिन्द ने बताया कि पता नही क्या कारण है कि पुलिस मेरे केस में गवाही देने नही आ रही, इसके पीछे हमे यह मंशा लगती है कि मानो सरकार नही चाहती के जयहिन्द के केस में पुलिस की गवाही हो और जयहिन्द ऐसे ही कोर्ट के चक्कर लगाता रहे। साथ ही जयहिन्द ने कहा कि गौ माता की सुरक्षा के लिए मुझ पर चाहे सौ केस लग जाए, हमे कोई परवाह नही। गौ माता के लिए हमारी जान भी हाजिर है। जयहिन्द ने बताया कि 8 साल पहले प्रदेश में गायो की दुर्दशा देखते हुए हमने खूंटा गाड़ अभियान चलाया था और आज भी स्थिति वही है। आप देख सकते है कि कैसे सड़को पर गौ माता कचरा खाती घूम रही है, ऐक्सीडेंट में मर रही है और सुनने वाला भी कोई नही है। इसी बॉक्स में— नवीन जयहिंद ने हाल ही रोहतक में हुए एक एक्सीडेंट का जिक्र करते हुए बताया कि रोहतक में वीटा प्लांट के नज़दीक एक एक्सीडेंट में चार गौ माता और एक बछड़े की कार एक्सीडेंट के दौरान मौत हो गई और साथ है एक गौभक्त घायल हो गया । उसका जिम्मेवार कौन है सरकार या प्रशासन ? वे गौ माता के लिये एक बार नहीं हज़ार बार जेल जाने को तैयार है । आज भी गौ माता सड़कों पर कूड़ा खा रही है । गौ चरण भूमि आज भी सरकार मुहैया नहीं करवा सकी है गाय के नाम पर सिर्फ़ राजनीति की रही है और वोट लूटे जा रहे है । लेकिन गाय माता को कुछ नहीं मिल रहा है ।